Breaking Tube : #1 News Portal of Uttar Pradesh
International

इस पाक नेता ने लगाई पीएम मोदी से मदद की गुहार, कहा- मुझे भारत में शरण दे दो और मेरे बदले ओवैसी को पाकिस्तान भेज दो

इंग्लैंड (England) में अपना निर्वासित जीवन यापन कर रहे पाकिस्तान (Pakistan) के नेता और मुत्ताहिदा कौमी मूवमेंट (MQM) के प्रमुख अल्ताफ हुसैन (Altaf Hussain) ने भारत के पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) से मदद मांगी है. उन्होंने पीएम मोदी से कहा कि ‘वो उन्हें भारत में शरण दे दें या फिर उनकी आर्थिक मदद ही कर दें. साथ ही अल्ताफ ने कहा कि ‘मोदी जी चाहे तो मेरे जगह असदुद्दीन ओवैसी को पाकिस्तान भेज दें’. बता दें पाकिस्तान में आतंकवादी गतिविधियों के आरोपी अल्ताफ हुसैन इन दिनों लंदन में रह रहे हैं.


Also Read: Video: पाक मंत्री की ‘कश्मीर में सेटेलाइट से इंटरनेट पहुंचाने’ वाली बात पर लोगों ने उड़ाई खिल्ली, बोले- फिर बोलते हो कोई हमें सीरियसली नहीं लेता


पाकिस्तानी टीवी चैनल जियो टीवी के मुताबिक जमानत में छूट मिलने के बाद पहली बार भाषण देने पहुंचे अल्ताफ हुसैन ने कहा कि वो भारत जाना चाहते हैं, जहां उनके पूर्वज रहे हैं. उन्होंने कहा ‘अगर पीएम मोदी मुझे भारत आने की इजाजत देते हैं और वहां शरण मिलती है तो फिर मैं अपने साथियों के साथ वहां पहुंच जाऊंगा, क्योंकि मेरे दादा को वहीं दफनाया गया है. इसके अलावा मेरे हज़ारों रिश्तेदारों को भी वहीं दफनाया गया है. मैं भारत में उनके मज़ार पर जाना चाहता हूं’.


Also Read: वकालत की शपथ ले रही थी मां और गोद में लेकर जज संभाल रहे थे उसका बच्चा, Video वायरल


अल्ताफ हुसैन ने आगे कहा कि ‘अगर पीएम मोदी जी मुझे भारत में शरण देने का जोखिम नहीं उठा सकते हैं तो फिर कम से कम वो मुझे पैसों से मदद कर दे. AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी पर निशाने साधते हुए उन्होंने कहा कि ‘अगर उन्हें भारत पसंद नहीं है तो फिर वो पाकिस्तान चले जाएं और बदले में मुझे भारत आने दे.


Also Read: इजरायल के हवाई हमले से बढ़ा तनाव, गाज़ा ने दागी सैकड़ों मिसाइलें, मारा गया ‘इस्लामिक जिहाद’ का कमांडर


बता दें अल्ताफ हुसैन 27 साल पहले पाकिस्तान से भागकर लंदन आ गए थे. वहीं, से वो अपनी पार्टी मुत्ताहिदा कौमी मूवमेंट कंट्रोल करते हैं. साल 1992 में तत्कालीन प्रधानमंत्री बेनजीर भुट्टो ने सेना भेजकर कराची में एमक्यूएम और उसके नेताओं को जमकर ठिकाने लगाया. माना जाता है कि उन दिनों कराची में हजारों लोग मारे गए. साल 1992 में अल्‍ताफ हुसैन पाकिस्‍तान में अपनी जान को खतरा बताते हुए ब्रिटेन चले गए. जिसके बाद साल 2002 में उनको ब्रिटिश नागरिकता मिल गई. इस शख्स पर एक-दो नहीं बल्कि पाकिस्तान में 3576 मामले चल रहे हैं. कुछ लोग अल्ताफ हुसैन को पीर भी मानते हैं.


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

हताश पाकिस्तान ने लगाई मीडिया पर लगाम, टीवी चैनलों पर नहीं होगा विशेष कार्यक्रमों का प्रसारण

S N Tiwari

पाकिस्तान में जमकर हो रही इमरान खान की फजीहत, लोग लगा रहे ‘मोदी से तू डरता है और मरियम से तू लड़ता है’ के नारे

S N Tiwari

जब खुलेआम पार्क में ही होने लगी लेस्बियन पोर्न मूवी की शूटिंग, सुनकर रह जायेंगे दंग

Satya Prakash