Breaking Tube
Crime UP News

अफ्रीकन तोता, इंसानी आवाज, बजाता है सीटी, अब तलाश में जुटी अलीगढ़ पुलिस, वजह जानकर हर कोई हैरान

थानों में अक्सर ही गुमशुदगी के केस दर्ज होते हैं. पर, अलीगढ़ (Aligarh) जिले में एक अजीबो गरीब मामला सामने आया है, जहाँ पुलिस की टीमें एक तोते की तलाश में लगी हुईं हैं. दरअसल, यह तोता अफ्रीकन नस्ल का है, जो आदमी की तरह ही बोलता है. वहीँ तोता सीटी भी बजाता है. तोते के मालिक की तहरीर पर पुलिस ने केस दर्ज करके तोते की तलाश शुरू की है. वहीँ इसका पता लगाने वालों को ईनाम देने का भी ऐलान किया है.


काफी महंगा है तोता

जानकारी के मुताबिक, अलीगढ़ के सरोज सदन साईं वाटिका रमेश विहार निवासी डा. एससी वाष्र्णेय ने बताया कि उनकी बेटी साफ्टवेयर इंजीनियर है. लंदन में नौकरी करती है, जिसे पशु-पक्षियों से प्रेम है. दो साल पहले यहीं रहती थी. तब अफ्रीकन नस्ल के एक तोते को ऑनलाइन खरीदा था. धुमैले रंग का यह तोता बोलता है. दो मार्च को सुबह आठ बजे तोता घर से गायब हो गया.


पता लगाने वाले को मिलेंगे दस हजार

जिसके बाद तोते के मालिक ने तुरंत ही पुलिस स्टेशन में जाकर रिपोर्ट दर्ज करानी चाही. हालाँकि पुलिसकर्मियों ने इसे टालने की बेहद कोशिश की लेकिन तोता काफी महंगा होने की वजह से पुलिस को रिपोर्ट लिखनी पड़ी. वहीँ अब इस तोते का पता लगाने वाले को दस हजार का इनाम देने की घोषणा की गयी है. आखिरी बार इसे रमेश विहार, मानसरोवर व ज्ञान सरोवर कालोनी में देखा गया है.


हालाँकि अलीगढ़ पुलिस 25 तरह की आवाजे निकालने वाले अफ्रीकन तोते ‘व्हिस्की’ को इतने दिन बाद भी नहीं तलाश पाई है. ग्रे रंग का यह तोता इंसानी आवाज में न केवल बोल सकता है, बल्कि नाम लेने के साथ सीटी भी बजाता है. इसकी कीमत एक लाख रुपये तक होती है


Also Read: गोरखपुर: निरीक्षण के दौरान लाइव लोकेशन डाल चौकी में सोता मिला सिपाही, भागने की कोशिश की तो ADG ने दबोच लिया, पूछा- क्यों करते हो ऐसा


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

योगी सरकार को हाईकोर्ट से बड़ी राहत, विकास दुबे एनकाउंटर पर याचिका हुई खारिज

BT Bureau

शाहजहांपुर: गर्लफ्रेंड से मिलने आये UP 100 के सिपाही ने महिला पर की छींटाकशी, विरोध करने पर मोहल्लें की औरतों से जमकर पीटा

S N Tiwari

प्रवासी श्रमिकों को रोजगार देने के लिए 6 राज्यों में चली योजना, UP बना देश में नंबर 1, केंद्र सरकार से मिला प्रथम पुरस्कार

Jitendra Nishad