Breaking Tube
Government

प्रयागराज: UPPSC के बाहर प्रतियोगी छात्रों का जोरदार प्रदर्शन, अंजू कटियार के कार्यकाल में हुईं भर्तियां रद्द करने की मांग

prayagraj public service commission

उत्तर प्रदेश के प्रयागराज स्थित उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (यूपीपीएससी) के बाहर शुक्रवार को हजारों की संख्या में प्रतियोगी छात्रों ने पोस्टर और बैनर के साथ जमकर प्रदर्शन किया। इस दौरान आयोग के खिलाफ नारेबाजी भी की गई। इन छात्रों की मांग है कि परीक्षा नियंत्रक अंजू कटियार के कार्यकाल में हुई भर्तियों को रद्द किया जाए और उनकी जांच सीबीआई से करवाई जाए।


लोक सेवा आयोग के बाहर भारी पुलिस फोर्स तैनात

बता दें कि ये प्रतियोगी छात्र एलटी ग्रेड भर्ती परीक्षा में पेपर लीक मामले को लेकर आक्रोशित हैं। वहीं, लोक सेवा आयोग के बाहर पुलिस और पीएसी के साथ आरएएफ बल की तैनाती कर दी गई है। साथ ही आयोग जाने वाले सभी रास्तों का ट्रैफिक डायवर्ट किया गया है।


जानकारी के मुताबिक, एलटी ग्रेड शिक्षक भर्ती परीक्षा का पेपर आउट होने के मामले में यूपी लोक सेवा आयोग की परीक्षा नियंत्रक अंजू कटियार को क्राइम ब्रांच और पुलिस की संयुक्त टीम ने गुरुवार को वाराणसी से गिरफ्तार कर लिया। जिसके बाद उन्हें पुलिस अभिरक्षा में 8:30 बजे विशेष न्यायधीश भ्रष्टाचार निवारण लालचंद्र के आवास पर पेश किया गया, जहां से उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जिला जेल भेज दिया गया।


Also Read: साइकिल से चलने वाले को मोदी ने बनाया मंत्री, फ़कीर के नाम से हैं मशहूर, प्रचार में एक भी रूपया नहीं किया खर्च


सूत्रों का कहना है कि अब अंजू कटियार के करीबियों पर भी अब शिकंजा कसने की तैयारी की जा रही है। जानकारी के मुताबिक, 29 जुलाई 2018 को वाराणसी में आयोजित एलटी ग्रेड परीक्षा के हिंदी और सामाजिक विज्ञानं का पेपर आउट हुआ था। कोलकाता निवासी अशोक देव चौधरी से पश्चिम बंगाल सीआईडी को मिली इस जानकारी के आधार पर यूपी एसटीएफ ने 27 मई को कोलकाता निवासी प्रिंटिंग प्रेस मालिक कौशिक कुमार को चोलापुर से गिरफ्तार किया। एलटी ग्रेड परीक्षा के पेपर उसके प्रेस में ही छपे थे।


Also Read: अमित शाह को मिला गृह मंत्रालय, जानिए किस मंत्री को क्या जिम्मेदारी मिली


उसने बताया कि प्रति अभ्यर्थी 5 लाख लेकर उसने 28 जुलाई 2018 को पेपर सॉल्वर गैंग के पास बनारस भिजवाया था। इस काम में अंजू की मिलीभगत थी और उसने उन्हें 26 मई को 10 लाख रुपए दिए थे। इसके अलावा जब भी लोक सेवा आयोग के पेपर छापते थे तो मिलने वाली रकम में वह 5 प्रतिशत कमीशन अंजू को देता था।


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

सबरीमाला मंदिर में 10 से 50 साल तक की महिलाओं का प्रवेश बंद

Satya Prakash

बुलंदशहर की घटना पर CM योगी ने लगाई फटकार तो मिठाई लेकर बच्ची को मनाने पहुंचे आला अफसर

Jitendra Nishad

UP में गाड़ी चलाते समय थूकने पर भरना पड़ेगा 1000 तक का जुर्माना, जल्द लागू होगा नियम

Jitendra Nishad