Breaking Tube
Crime UP News

धर्मांतरण रैकेट: गिरफ्तार मौलाना उमर गौतम को लेकर बड़ा खुलासा, लखनऊ के ‘अल हरम एजुकेशन एंड वेलफेयर फाउंडेशन’ का निकला उपाध्यक्ष

Maulana Umar gautam lucknow

उत्तर प्रदेश में अवैध धर्म परिवर्तन के मामले में गिरफ्तार मौलाना उमर गौतम (Maulana Umar Gautam) से जुड़ा एक और बड़ा खुलासा हुआ है। जांच में पता चला है कि उमर गौतम राजधानी लखनऊ (Lucknow) से संचालित एक और संस्था का पदाधिकारी है। वह लखनऊ की अल हरम एजुकेशन एंड वेलफेयर फाउंडेशन (Al Haram Education and Welfare Foundation) का वाइस प्रेसिडेंट (उपाध्यक्ष) है।


अवैध धर्मांतरण का आरोपी मोहम्मद उमर गौतम के अल हरम एजुकेशन एंड वेलफेयर फाउंडेशन का लखनऊ के मलिहाबाद स्थित रहमानखेड़ा में स्कूल चल रहा है। 10वीं तक सीबीएसई बोर्ड के इस स्कूल में 500 बच्चों को मुफ्त शिक्षा देने का दावा किया जा रहा है। यह स्कूल करीब 9,000 स्क्वायर मीटर जमीन पर बना हुआ है। जांच में पता चला है कि लखनू के साथ ही हरदोई के रसूलपुर इलाके में भी अल हरम एजुकेशन एंड वेलफेयर फाउंडेशन गर्ल्स स्कूल चला रहा है।


Also Read: ‘धर्मांतरण अल्लाह का काम, 1000 से ज्यादा हिंदुओं को बनाया है मुसलमान’..अपने पुराने Videos में उमर गौतम ने बताया कैसे ज़िहाद को दे रहा था अंजाम

अब यूपी एटीएस के रडार पर इस संस्था के सात सदस्य आ गए हैं। एटीएस इस संस्था के सभी बैंक अकाउंट्स की जांच कर रही है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, इस संस्था का अध्यक्ष इकबाल अहमद नदवी है। उमर गौतम उपाध्यक्ष है, नजीबुल हसन सचिव और अब्दुल हाई, मुहीब-ए-आलम, आमना रिजवान और मुशीर अहमद सदस्य हैं। संस्था के सचिव नजीबुल ने इन जानकारियों की पुष्टि की है। नजीबुल हसन ने बताया कि मामले के खुलासे के बाद उमर गौतम को उपाध्यक्ष पद से हटाया दिया गया है।


गिरफ्तार आरोपी उमर गौतम भी हिंदू से मुसलमान बना है। उमर गौतम नई दिल्ली में इस्लामिक दावाह सेंटर के नाम से एक संस्था चलाता है, जिसके जरिए धर्मांतरण कराया गया। इस काम के लिए संस्था के बैंक खाते में और अन्य माध्यमों से भारी मात्रा में पैसे उपलब्ध कराए जाते हैं। इसके लिए विदेशों से फंडिंग भी की जा जाती है, जिसका इस्तेमाल धर्म परिवर्तन में किया जाता है।


Also Read: धर्मांतरण रैकेट: लखनऊ की प्रियंका बनी फातिमा, बहला-फुसलाकर मोहम्मद फारूख ने बनाया मुसलमान


मोहम्मद उमर गौतम के बहुत से सहयोगी हैं, जिनमें से मुफ्ती काजी जहांगीर आलम कासमी पुत्र ताहिर अख्तर धर्मांतरण के इस आपराधिक षडयंत्र में सहयोगी है। इसके द्वारा धर्मांतरण प्रमाण पत्र और विवाह प्रमाण पत्र गैर कानूनी ढंग से तैयार किया जाता था।


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

कौशांबी में लव जिहाद, पहचान छिपाकर दोस्ती, शादी के बाद जबरन धर्मांतरण, शारीरिक शोषण, गर्भवती होने पर चिमटे से दागा

BT Bureau

UP को सोलर एनर्जी का सबसे बड़ा Hub बनाने की तैयारी में योगी सरकार, 7500 करोड़ रुपए के प्रस्ताव को मंजूरी

BT Bureau

बुलंदशहर: कूड़ा फेंकने जा रही लड़की को अकेला पाकर दूसरे समुदाय के युवक ने की छेड़छाड़, विरोध पर की पत्थरबाजी

BT Bureau