लोकसभा चुनाव से पहले मोदी सरकार ला सकती है सस्ते लोन, पेंशन और मुफ्त दुर्घटना बीमा जैसी कई योजनाएं

लोकसभा चुनाव की तारीख बेहद नजदीक है, ऐसे में केन्द्र में स्थित मोदी सरकार समाज के हर तबके के लिए कुछ न कुछ नया लाने की कोशिश कर रही है. ख़बरों के अनुसार, मोदी सरकार जल्द ही लाखों छोटे व्यापारियों को सस्ते दर पर लोन और दुर्घटना बीमा कवरेज देने पर विचार कर रही है. गौरतलब है कि व्यापारी वर्ग को बीजेपी का समर्थक समझा जाता है, लेकिन नोटबंदी और जीएसटी जैसे फैसलों से उनमें कुछ नाराजगी है और इसी वजह से सरकार यह योजनाए लाकर इनकी नारजगी ख़त्म करने की कोशिश कर रही है.


Also Read: चुनाव के पहले मोदी सरकार ने खेला ये दांव, किसानों के हित में लिया बड़ा फैसला


विधानसभा चुनाव में में मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान जैसे राज्यों में मिली बड़ी हार के बाद बीजेपी अपने कोर वोटर्स को लेकर काफी सजग हो गया है और ख़बरों के अनुसार, सरकार ने हाल ही में जीएसटी में छूट के साथ ही ई-कॉमर्स पॉलिसी को भी छोटे व्यापारियों के हित में बदला है. खबर है कि, सरकार 5 करोड़ रुपये से कम सालाना बिक्री वाले व्यापारियों को 2 फीसदी सस्ता लोन दिलाने पर काम कर रही है. ब्याज पर छूट के बराबर रकम सरकार बैंकों को देगी.


Also Read: GST चोरी करने वालों पर कसेगा शिकंजा, सरकार ने उठाया बड़ा कदम


अधिक क्रेडिट रेटिंग वाले छोटे व्यापारी 9-10 फीसदी ब्याज पर बैंक लोन ले सकते हैं, जबकि कम रेटिंग वाले व्यापारी 13-14 फीसदी ब्याज दर से कर्ज ले सकते हैं. कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के महासचिव प्रवीण खंडेलवाल ने कहा कि 7 करोड़ छोटे व्यापारियों में से केवल 4 फीसदी को ही बैंक ऋण उपलब्ध है. निजी कर्जदारों से कई बार उन्हें 25 फीसदी महीने तक के ऊंचे दर पर पैसा मिलता है. सरकार बैंकों में व्यापारियों के लिए अलग विंडो खोलने पर भी विचार कर रही है.


Also Read: 7th Pay Commission: मोदी सरकार ला रही ‘गणतंत्र दिवस बोनांजा’, इस कर्मचारियों को होगा बंपर फायदा


मुफ्त बीमा भी देगी मोदी सरकार


ख़बरों के मुताबिक, सरकार 1 करोड़ रुपये से कम सालाना बिक्री वाले व्यापारियों को 10 लाख रुपये तक का मुफ्त दुर्घटना बीमा भी उपलब्ध कराने पर विचार कर रही है. एक सूत्र ने कहा, ‘छोटे व्यापारियों के पास काम करने वाले कर्मचारियों को भी बीमा योजना का लाभ उठाने में छूट मिल सकती है.’ साथ ही सरकार रिटायरमेंट के बाद पंजीकृत व्यापारियों को पेंशन देने पर भी विचार कर रही है. व्यापार संगठन मांग करते रहे हैं कि वे ग्राहक से टैक्स कलेक्ट कर राजस्व में जमा कराते हैं और एक तरह से सरकारी मशीनरी का हिस्सा हैं. ऐसे में उन्हें भी अन्य कर्मचारियों की तरह बीमा और रिटायरमेंट स्कीमों की सुविधा मिलनी चाहिए.


देश और दुनिया की खबरों के लिए हमेंफेसबुकपर ज्वॉइन करेंआप हमेंट्विटरपर भी फॉलो कर सकते हैं. )

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here