Breaking Tube
Crime International

इंग्लैंड में रेप जिहाद! 13 से 20 साल की लड़कियों को बनाते थे शिकार, आसिफ़ समेत 31 को हुई जेल

England Huddersfield

इंग्लैंड (England) के वेस्ट यॉर्कशायर में स्थित कर्कलिज जिले के हडर्सफील्ड (Huddersfield) के तीन लोगों को एक किशोरी का रेप करने के मामले में गिरफ्तार कर जेल भेजा गया है। आरोपियों की पहचान 44 वर्षीय बनारस हुसैन, 44 वर्षीय मोहम्मद अकरम और 41 वर्षीय तालिश अहमद के रूप में हुई है। लीड्स क्राउन कोर्ट में सुनवाई के बाद इन्हें क्रमश: 18, 13 और 10 साल जेल की सजा सुनाई गई है।


इन्हें वेस्ट यॉर्कशायर पुलिस के लंबे समय से चल रहे अभियान ‘Operation Tendersea Inquiry’ के तहत दोषी पाया गया है। इस अभियान के तहत बलात्कार के पुराने मामलों के दोषियों को पकड़ा जाता है और उन्हें सज़ा सुनाई जाती है। पीड़िता की उम्र 13-15 वर्ष के बीच थी, जब इन्होंने उसका लगातार कई बार बलात्कार किया।


पुलिस ने कहा कि इस तरह की कड़ी सज़ा एक युवा लड़की के साथ हुए बलात्कार के अपराध की गंभीरता को दिखाती है। उन्होंने आश्वासन दिया कि पीड़िताओं को न्याय दिलाने के लिए पुलिस सब कुछ करेगी। जब इन तीनों ने लड़की को अपना शिकार बनाया था, तब वो स्कूल यूनिफॉर्म में थीं। इन्होंने उसका पीछा कर के अपना शिकार बनाया था। पहले लालच देकर दोस्ती की गई, फिर उसका अपहरण कर लिया गया था।


Also Read: धर्मांतरण रैकेट: UP ATS ने नागपुर से 3 जिहादियों को किया गिरफ्तार, उमर गौतम के साथ मिलकर लोगों को बना रहे थे मुसलमान


कई महीनों बाद वो लड़की किसी तरह वहाँ से भागने में सफल रही। 25 वर्षों बाद इन तीनों को दोषी पाया गया। उस लड़की को स्कूल के प्लेग्राउंड और उसके अपने ही कमरे में ले जाकर उसका रेप किया गया था। बनारस हुसैन इस रेप के समय शादीशुदा था। इसी साल मई में इसी तरह के मामले में 29 लोगों के ऊपर आरोप तय किए गए थे। उत्तरी इंग्लैंड में एक लड़की के यौन शोषण को लेकर इन्हें गिरफ्तार किया गया था। इन सभी की उम्र 35 से 64 वर्ष के बीच थी।


जानकारी के अनुसार, 2003-10 के बीच जब इन्होंने इस अपराध को अंजाम दिया, तब पीड़िता की उम्र 13-20 साल के बीच थी। अपराध की अधिकतर घटनाएँ काल्डरलेड और इसके पड़ोस में स्थित ब्रैडफोर्ड जिले में हुई। साजिश के तहत ड्रग्स से लेकर शराब वगैरह तक का लालच देकर लड़कियों को ये लोग शिकार बनाते थे।


Also Read: मेरठ: खेत में अश्लील हरकतें करते हुए अब्बू-बेटी को ग्रामीणों ने रंगेहाथ पकड़ा, 10 सालों से दोनों के बीच हैं नाजायज संबंध, Video वायरल


दोषियों में 37 वर्षीय असद अली, 39 वर्षीय मोहम्मद अज़ीज़, 44 वर्षीय मोहम्मद ज़ंजीर, 36 वर्षीय मोहम्मद आसिफ, 37 वर्षीय हैरिस अहमद बट्ट, 36 वर्षीय तौकीर बट्ट, 40 वर्षीय मुइतसीम खान, 47 वर्षीय मोहम्मद हाजमा, 40 वर्षीय मोहसिन मेरे, 38 वर्षीय जावेद मीर, 37 वर्षीय हारून सिद्दीकी, 41 वर्षीय ज़ाकिर इक़बाल, 35 वर्षीय सरफराज रबनवाज, 43 वर्षीय वाजिद अदालत, 45 वर्षीय साजिद अदालत, 43 वर्षीय नाजिम हुसैन और 43 वर्षीय साकिब हुसैन शामिल थे।


इनके अलावा 48 वर्षीय सदाकत अली, 48 वर्षीय ज़ायराब मोहम्मद, 41 वर्षीय इमरान राजा यासीन, 40 वर्षीय जुल्फिकार अली, 64 वर्षीय मलिक आबिद कदीर, 45 वर्षीय कामरान अमीन, 51 वर्षीय मोहम्मद अख्तर, 38 वर्षीय अली जुल्फिकार, 40 वर्षीय सफीक अली रफीक, 45 वर्षीय आमिर शाबान और 36 वर्षीय साकिब नजीर को भी पकड़ा गया था। हालांकि इस मामले में 8 अन्य को गिरफ्तार कर छोड़ दिया गया था, क्योंकि उनके विरुद्ध सबूत नहीं मिले थे।


Also Read: फर्रूखाबाद: Porn Video एडिट कर हिंदू देवी-देवताओं को जोड़ा, अपमान पर भारी आक्रोश, जुल्फिकार समेत 7 के खिलाफ FIR


ये मामला इंग्लैंड में नाबालिग लड़कियों के यौन शोषण की जांच का सबसे बड़ा मामला है। इस आपराधिक साजिस के तहत कई लोगों के गिरोह ने कई लड़कियों को फंसाकर उनका रेप किया था। इसे ‘हैलिफैक्स चाइल्ड सेक्स एब्यूज रिंग’ भी कहते हैं। गिरफ्तार लोगों में 84 प्रतिशत दक्षिण एशियाई थे और मुस्लिम थे। इसमें लड़कियों को लालच देकर उन्हें निशाना बनाया जाता था। इस मामले में अब तक 100 से अधिक लोगों को सजा सुनाई जा चुकी है।


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

#MeToo: यौन शोषण के खिलाफ शत्रुघ्न सिन्हा बोले- आरोप साबित किये बिना ढोंग और पाखंड करना बंद करो

Satya Prakash

UP में बदमाशों का ताबड़तोड़ एनकाउंटर जारी, नोएडा में 25 हजार का ईनामी गिरफ्तार

Shruti Gaur

यूपी: बढ़ेंगी भगोड़े IPS की मुश्किलें, SP ने कोर्ट से मांगी संपत्ति कुर्क करने की इजाजत

BT Bureau