सिंधू ने हारकर भी रचा इतिहास, ‘सिल्वर’ जीतने वाली पहली भारतीय बनीं

जकार्ता: ओलंपिक सिल्वर पदक विजेता पी वी सिंधू को एक बार फिर फाइनल में पराजय का सामना करना पड़ा। लेकिन एशियाई खेलों के फाइनल में दुनिया की नंबर एक खिलाड़ी ताइ जू यिंग से हारकर भी उसने भारत के लिए बैडमिंटन एकल में पहला रजत जीतने का रिकार्ड अपने नाम कर लिया। अभी तक एशियाई खेलों के एकल फाइनल में कोई भारतीय नहीं पहुंचा है।

 

Image result for sindhu

 

सिंधू को 34 मिनट तक चले मुकाबले में चीनी ताइपै की खिलाड़ी ने 21.13, 21.16 से हराया। भारत ने पहली बार एशियाई खेलों में बैडमिंटन में दो एकल पदक जीते हैं। साइना को सेमीफाइनल में ताइ ने ही हराया था। सिंधू इससे पहले गोल्ड कोस्ट राष्ट्रमंडल खेलों के फाइनल में साइना से हारी थी जबकि विश्व चैम्पियनशिप के फाइनल में उसे स्पेन की कैरोलिना मारिन ने मात दी थी। वह इस साल इंडिया ओपन फाइनल में बेवेन झांग से और थाईलैंड ओपन में नोजोमी ओकुहारा से हारी थी। सिंधू की ताइपै के हाथों यह लगातार छठी हार थी।

 

Also Read :  एशियन गेम्स 2018: आज भारत इन खेलों में लेगा हिस्सा

 

ताइ ने शुरू ही से बढ़त बना ली थी और अपने दमदार रिटर्न से पहले पांच अंक हासिल किए। सिंधू ने वापसी करके अंतर 4.6 का किया लेकिन ताइ ने उसे दबाव बनाने का कोई मौका ही नहीं दिया और जल्दी ही बढ़त 17.10 की कर ली। सिंधू के पास उसके तेज तर्रार रिटर्न का कोई जवाब नहीं था। पहला गेम 16 मिनट में खत्म हो गया। दूसरे गेम में सिंधू ने उसे बेसलाइन की ओर धकेलने की कोशिश की लेकिन सहज गलतियों से कई अंक गंवाए। एक समय स्कोर 4.4 था लेकिन ताइपै की खिलाड़ी ने अपनी पकड़ मजबूत करते हुए 15.10 की बढ़त बना ली। ताइ को जल्दी ही मैच प्वाइंट मिला जब सिंधू की शटल नेट में चली गई। सिंधू ने पहला मैच प्वाइंट बचाया लेकिन अगले ही विनर पर ताइ ने यह गेम और मैच जीत लिया।

 

Also Read : नीरज चोपड़ा ने गोल्ड किया अटल जी को समर्पित

 

देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करेंआप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here