लोकसभा चुनाव के बाद होगी यूपी पुलिस में 5,000 दरोगाओं की भर्ती

0
9

लोकसभा चुनाव 2019 के बाद उत्तर प्रदेश में करीब 5000 पदों के लिए दरोगाओं की भर्ती होनी है। साल के अंत तक इनकी लिखित और शारीरिक परीक्षा करवाकर रिजल्ट जारी करने की तैयारी है। हालांकि सरकार की कोशिश थी कि इन भर्तियों की प्रक्रिया चुनाव से पहले शुरू हो जाए, लेकिन फिलहाल न ही उत्तर प्रदेश पुलिस भर्ती एवं प्रोन्नति बोर्ड इसके लिए तैयार है और न ही प्रशिक्षण मुख्यालय। इसलिए अब चुनाव बाद ही इन भर्तियों की प्रक्रिया शुरू कराई जाएगी।


उत्तर प्रदेश पुलिस भर्ती एवं प्रोन्नति बोर्ड ने दी जानकारी

उत्तर प्रदेश पुलिस भर्ती एवं प्रोन्नति बोर्ड के अध्यक्ष आर के ‌विश्वकर्मा ने बताया कि करीब एक लाख पदों के लिए भर्तियों की प्रक्रिया चल रही है। भर्ती पूरी होने के बाद इन सभी को ट्रेनिंग भी करवानी होगी। अभी यूपी में इतने बड़े पैमाने पर प्रशिक्षण के संसाधन उपलब्ध नहीं हैं। चूंकि दरोगाओं के 5000 पदों पर भर्ती के लिए बड़ी संख्या में आवेदन आने की संभावना है। इतनी बड़ी संख्या में आवेदन आने के बाद उन्हें प्रक्रिया का हिस्सा बनाने में काफी दिक्कत आएगी, क्योंकि 49568 पदों पर सिपाहियों की भर्ती की प्रक्रिया पहले से चल रही है।


Also Read: कुशीनगर: बेटियां बना रहीं थी मर्दों की दाढ़ी, यूपी पुलिस के कांस्टेबल से देखा नहीं गया, खुद की कमाई से दिए 46 हजार रुपए

इसके अलावा हाल ही में 2486 दरोगाओं और करीब 400 मृतक आश्रित कोटे से भर्ती हुए दरोगाओं की ट्रेनिंग भी करवानी है। हाल ही में 41,610 पदों के लिए सिपाहियों की भर्ती का रिजल्ट जारी किया गया है। उनकी भी ट्रेनिंग करवानी है। साथ ही वायरलेस विभाग के डेढ़ हजार से ज्यादा पदों के लिए भी भर्तियां करानी हैं। इन सभी टॉस्क को देखते हुए फिलहाल दरोगाओं के 5000 पदों पर भर्ती को लोकसभा चुनावों तक के लिए टाला जा रहा है।


अक्टूबर से पहले हो सकती है लिखित परीक्षा

लोकसभा चुनावों के अलावा मौसम भी एसआई भर्ती टालने की वजह बना है। दरअसल अगर बोर्ड लोकसभा चुनावों से पहले विज्ञापन जारी कर भर्ती प्रक्रिया शुरू करवा देता और अप्रैल तक लिखित परीक्षा भी हो जाती है। लेकिन उसके बाद शारीरिक परीक्षा के लिए मई से अक्टूबर तक का मौसम अभ्यर्थियों के लिए ठीक नहीं रहता।


Also Read: यूपी: ADG कानून-व्यवस्था का आदेश, UP 100 में तैनात पुलिसकर्मी अपने पास न रखें निजी मोबाइल


गर्मियों में उनकी तबीयत बिगड़ने की आशंका रहती और बारिश में उनके चोटिल होने की। इसलिए शारीरिक परीक्षा के लिए भर्ती बोर्ड नवंबर से फरवरी के समय को उपयुक्त मानता है। माना जा रहा है। दरोगाओं की लिखित परीक्षा अक्टूबर से पहले पूरी हो जाएगी और नवंबर में उनकी शारीरिक परीक्षा करवाई जाएगी।


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमेंफेसबुकपर ज्वॉइन करें, आप हमेंट्विटरपर भी फॉलो कर सकते हैं. )

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here