46000 करोड़ के रक्षा सौदों को मंजूरी, नौसेना को मिलेंगे 125 से अधिक हेलिकॉप्टर

 

सरकार ने पुराने पड़ चुके चेतक हेलिकॉप्टरों के बेड़े को बदलने की दिशा में बड़ा कदम उठाते हुए नौसेना के लिए 21 हजार करोड़ रूपये की लागत से 111 हेलिकॉप्टरों सहित कुल 46 हजार करोड़ रूपये के रक्षा सौदों को आज मंजूरी दे दी। रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण की अध्यक्षता में हुई रक्षा खरीद परिषद की बैठक में नौसेना के लिए 24 बहुउद्देशीय हेलिकॉप्टर एमएच 60 ‘रोमियो’, सेना के लिए 3364 करोड़ रूपये की लागत से 150 तोप और नौसेना के लिए छोटी दूरी की 14 मिसाइल प्रणाली की खरीद को भी हरी झंडी दिखायी गई।

 

 

PunjabKesari

 

नौसेना के लिए 111 हेलिकॉप्टरों की खरीद का सौदा इस मायने में बेहद महत्वपूर्ण है कि यह सरकार की मेक इन इंडिया योजना को रक्षा क्षेत्र में बढावा देने के लिए रक्षा मंत्रालय के बहुचर्चित सामरिक भागीदारी मॉडल के तहत पहला प्रोजेक्ट है। सामरिक भागीदारी मॉडल की विशेषता यह है कि इसके तहत भारतीय सामरिक भागीदार लड़ाकू विमान, हेलिकॉप्टर, पनडुब्बी और बख्तरबंद वाहन जैसे बडे रक्षा प्लेटफार्म देश में ही बनायेंगे। ये भागीदार इसके लिए देश में ही संयंत्र स्थापित करेंगे और इससे संबंधित अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी अपने विदेशी भागीदार से हासिल करेंगे।

 

 

PunjabKesari

 

 

इस मॉडल का दीर्घावधि उद्देश्य भारत को रक्षा उत्पादन क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाने के साथ साथ भारत को रक्षा उपकरणों के उत्पादन के हब के रूप में विकसित करना है। इस मॉडल के तहत प्रोजेक्टों को अंतिम रूप दिये जाने के बाद देश में रक्षा उद्योगों के अनुकूल माहौल बनेगा और निजी क्षेत्र तथा सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग इसके महत्वपूर्ण भागीदार होंगे। सरकार ने नौसेना की ताकत बढाने के उद्देश्य से उसे 24 बहुउद्देशीय हेलिकॉप्टरों से लैस करने की भी मंजूरी दी है।

 

 

PunjabKesari

 

सूत्रों के अनुसार फ्रांस सरकार से राफेल लड़ाकू विमानों की सीधी खरीद के तर्ज पर ही ये हेलिकॉप्टर सीधे अमेरिकी सरकार से खरीदे जायेंगे। नौसेना को लंबे समय से इस तरह के हेलिकॉप्टरों की दरकार है। इन हेलिकॉप्टरों से लैस होने के बाद नौसेना की ताकत काफी बढ जायेगी क्योंकि ये हेलिकॉप्टर पनडुब्बी रोधी अभियानों के साथ साथ फायर स्पोर्ट और समुद्र में पूर्व चेतावनी संबंधी काम भी करेंगे। इन हेलिकॉप्टरों को युद्धपोतों पर तैनात किया जा सकता है।

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here