आस्था ही नहीं आमदनी का जरिया भी है कुंभ, भर देगा योगी सरकार का खजाना

आस्था और अध्यात्म का समागम प्रयागराज कुंभ आर्थिक गतिविधियों का शक्तिशाली इंजन बनकर भी उभरा है. प्रयागराज कुंभ से उत्तर प्रदेश सरकार को 1200 अरब रुपये का राजस्व मिलने की उम्मीद है. भारतीय उद्योग परिसंघ सीआइआइ ने यह अनुमान लगाया है. कुंभ मेला 15 जनवरी से 4 मार्च तक चलेगा.



सीआइआइ की एक रिपोर्ट के मुताबिक 15 दिनों तक चलने वाले कुंभ मेले के आयोजन से जुड़े कार्यों में6 लाख से ज्यादा कामगारों के लिए रोजगार पैदा हो रहा है. कुंभ मेला क्षेत्र में स्थित क्षेत्र में करीबन ढ़ाई लाख लोगों को रोजगार मिलेगा. वहीं एयरलाइंस और हवाई अड्डों पर करीब डेढ़ लाख लोगों को रोजगार मिलेगा, लगभग 45000 टूर ऑपरेटरों को भी रोजगार मिलेगा. इसके अलावा ईको टूरिज्म और मेडिकल टूरिज्म क्षेत्रों में लगभग 85,000 रोजगार के अवसर सृजित होंगे. इससे सरकारी एजेंसियों और निजी कारोबारियों की आय में वृद्धि होगी.


बता दें कि योगी सरकार ने कुंभ के लिए 4200 करोड़ रुपये आवंटित किए हैं जो वर्ष 2013 में आयोजित महाकुंभ के बजट का 3 गुना है. इस बार कुंभ मेले में करीब 15 करोड़ लोगों के आने की संभावना है. आस्था के आयोजन में विदेशी पर्यटक बड़ी संख्या में आ रहे हैं. सीआइआइ का अनुमान है कुंभ मेले से उत्तराखंड, पंजाब और हिमाचल प्रदेश को भी फायदा होगा इसकी वजह यह है कि कुंभ में शामिल होने वाले लोग इन राज्यों के पर्यटन स्थलों का भी जा सकते हैं.


Also Read: कुंभ 2019: मिलिए इन अनोखे बाबाओं से, देखकर आप भी कह उठेंगे.. ‘बाबा बाबा हैं’


देश और दुनिया की खबरों के लिए हमेंफेसबुकपर ज्वॉइन करेंआप हमेंट्विटरपर भी फॉलो कर सकते हैं. )


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here