Breaking Tube
International

‘अल्लाह के वास्ते 15 साल से ऊपर की लड़कियों और 45 साल से कम उम्र की विधवाएं हमारे लड़ाकों को सौंप दें’, महिलाओं को Sex Slaves बनाने के लिए तालिबान का फरमान

अफगानिस्तान (Afganistan) पर कब्जा करने के लिए तालिबान पूरी ताकत लगा रहा है और लगातार अफगान सुरक्षा बलों के साथ उसकी लड़ाई हो रही है और इन सबके बीच तालिबान (Taliban) ने अपने जंग को अल्लाह का पाक काम बताया है. तालिबान ने कहा है कि वो अल्लाह का नेक काम कर रहा है, लिहाजा अफगानिस्तान के लोग अल्लाह के काम के वास्ते उसके साथ आएं और अपने घर की बेटियों को अल्लाह के काम में लगाने के लिए तालिबान के हवाले कर दें. तालिबान ने जिन इलाकों पर नियंत्रण हासिल कर लिया है, उन इलाकों के मौलवियों के लिए तालिबान ने नया फरमान जारी किया है.


महिलाओं के सेक्स स्लेव बनाने की तैयारी

द सन में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक, तालिबान ने वादा किया है कि वह अपने लड़ाकों से निकाह करवाने के बाद इन महिलाओं को पाकिस्तान के वजीरिस्तान में भेज देगा. अगर कोई लड़की मुस्लिम नहीं होगी तो उसका धर्म परिवर्तन करवाया जाएगा. दरअसल तालिबान इन महिलाओं को अपने लड़ाकों की गुलाम बनाना चाहता है. लड़ाके इन महिलाओं को सेक्स स्लेव (Sex Slaves) तालिबान का ये ताजा फरमान तब आया है, जब तालिबान ने ईरान, पाकिस्तान, उज्बेकिस्तान और ताजिकिस्तान के साथ लगे कई प्रमुख जिलों और सीमा चौकियों पर नियंत्रण हासिल कर लिया है. वहीं, अमेरिकी सेना के अफगानिस्तान से बाहर निकलने के बाद अफगान फोर्स ने तालिबान का ज्यादा मुकाबला नहीं किया है.


लड़कियों को अगवा करेगा तालिबान

तालिबान के इस फरमान के बाद तालिबान नियंत्रित इलाकों में रहने वाले लोगों में दहशत का माहौल है. लोगों का कहना है कि अब तालिबान उनकी बेटियों को जबरन ले जाएगा और उनकी शादी अपने आतंकियों से कराएगा और उन्हें गुलाम बना देगा. अफगानिस्तान के एक बिजुर्ग हाजी रोजी बेग ने फाइनेंशियल टाइम्स से कहा कि ”जब से तालिबान ने कब्जा किया है, हमारी स्थिति काफी मुश्किल हो गई है. हम घर से बाहर नहीं निकल सकते. हम संगीत नहीं सुन सकते, महिलाओं को बाजार नहीं भेज सकते. तालिबान के कमांडर हमारे घर आते हैं और हमारी बेटियों के बारे में पूछते हैं और हमें कहते हैं कि आपको 18 साल से ज्यादा उम्र की लड़कियों को घर में नहीं रखना चाहिए. यह पाप है, उन्हें शादी करनी चाहिए” हाजी रोजी बेग ने कहा कि ”मुझे पता है कि वो अगले कुछ दिनों में आएंगे और हमारी दोनों बेटियों को जबरदस्ती ले जाएंगे…हम डरे हुए हैं”,


पुरूषों को दाढ़ी बढ़ाने का फरमान

तालिबान ने अफगानिस्तान के उत्तरपूर्वी प्रांत तखर में हाल ही में कब्जा किए गए जिलों में नए कानून और नियम जारी कर दिए हैं, जिनमें महिलाओं को अकेले घर से बाहर निकलने पर पाबंदी लगा दी गई है, वहीं पुरुषों को दाढ़ी बढ़ाने का आदेश दिया गया है. एरियाना न्यूज ने तखर में नागरिक समाज के कार्यकर्ताओं का हवाला देते हुए कहा कि तालिबान ने लड़कियों के लिए दहेज के नियम भी तय कर दिए हैं. एरियाना न्यूज ने तखर में एक नागरिक सामाजिक कार्यकर्ता मेराजुद्दीन शरीफी के हवाले से कहा है कि, “तालिबान ने एक बयान में महिलाओं से एक रिश्तेदार (मोहरम) के बिना बाहर नहीं निकलने का हुक्म किया है. साथ ही पूरूषों के लिए तालिबान ने दाढ़ी रखना अनिवार्य कर दिया है.” शरीफी ने यह भी कहा कि “तालिबान बिना सबूत के मुकदमे भी चलाना शुरू कर चुका है”.


तालिबानी आतंकवादियों ने तेज किए हमले

गौरतलब है कि अमेरिका, ब्रिटेन और अन्य देशों के सैनिक अफगानिस्तान छोड़ रहे हैं और इसका फायदा उठाते हुए तालिबानी आतंकवादियों ने हमले तेज कर दिए हैं. एक रिपोर्ट के मुताबिक, तालिबान ने अफगानिस्तान के 85 फीसदी क्षेत्र पर कब्जा कर लिया है. तालिबान ने अपने कब्जे वाले इलाकों में शरिया का कानून लागू कर दिया है. यहां अब स्मोक करना, दाढ़ी काटना और महिलाओं का अकेले घर से निकलना बैन कर दिया गया है


Also Read: पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों पर जुल्म जारी, सिंध में 60 हिंदुओं का जबरन कराया गया धर्मांतरण


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

30 साल पुराना चर्च मंदिर में होगा तब्दील, पढ़ें पूरी खबर

BT Bureau

पाकिस्तानी महिलाओं का शरीर नोच रहा चीन, जिस्मानी जरूरतों के लिए जबरन करते है फर्जी शादी

S N Tiwari

पाकिस्तान को लगा बड़ा झटका, भारत को मिलेंगे हैदराबाद के 7वें निजाम के अरबों रुपये, 70 साल पुराने मामले में कोर्ट ने सुनाया फैसला

S N Tiwari