Breaking Tube
Business Politics

कृषि कानून का गुस्सा अंबानी की कंपनी पर निकाल रहे किसान, रिलायंस Jio के 1411 टावरों को पहुंचाया नुकसान

mukesh ambani reliance jio tower

केंद्र सरकार द्वारा लाए गए कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का आंदोलन जारी है। अब किसानों के निशानों पर मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani ) की कंपनी रिलायंस जियो (Reliance Jio) आ गई है। दिल्ली की सीमा पर डटे किसानों ने बीते दिनों रिलायंस जियो का सिम कार्ड जलाकर विरोध प्रदर्शन किया तो अब जियो मोबाइल टावरों की बिजली काटी जा रही है। जानकारी के मुताबिक, पंजाब में अब तक कुल 1411 मोबाइल टावर (Tower) के कनेक्शन काटे जा चुके हैं, जिसकी वजह से दूरसंचार संपर्क व्यवस्था पर असर पड़ रहा है।


मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पिछले 24 घंटों में पंजाब में 176 से अधिक मोबाइल टावर प्रभावित हुए हैं। इसके पीछे तर्क दिया जा रहा है कि नए कृषि कानूनों से मुकेश अंबानी और गौतम अडाणी जैसे उद्योगपतियों को लाभ होगा। इसी को लेकर पंजाब में विभिन्न स्थानों पर रिलायंस जियो के टावरों को नुकसान पहुंचाया जा रहा है। बताया जा रहा है कि इनमें ज्यादातर जियो और दूरसंचार उद्योग के साझा बुनियादी ढांचा सुविधाओं से जुड़े टॉवरों को क्षति पहुंचायी गयी है। टॉवरों को नुकसान पहुंचने से दूरसंचार सेवाओं पर भी असर पड़ा है।


Also Read: ‘पीएम सम्मान निधि’ की नाम मात्र की धनराशि देकर किसानों का बड़ा नुकसान करना चाहती है BJP: अखिलेश


विरोश प्रदर्शन शुरू होने से अबतक 1,338 से अधिक मोबाइल टॉवरों की बिजली काटी गई है। कुछ क्षेत्रों में संपत्ति को भी नुकसान पहुंचाया गया है। मनसा के मूसा गांव में टावर से जुड़े एक पोल को फेंक दिया गया, जबकि एक केबल बॉक्स भी जला हुआ पाया गया। सूत्रों ने कहा कि केबल की मरम्मत कर रहे कंपनी के कुछ कर्मचारियों के साथ ग्रामीणों ने धक्का मुक्की भी की है।


ऐसे में पंजाब के मुख्यमंत्री ने शुक्रवार को प्रदर्शनकारी किसानों से इस प्रकार के कार्यों से आम लोगों को असुविधा नहीं पहुंचाने की अपील की। उन्होंने किसानों से कहा कि जिस संयम के साथ वे आंदोलन करते आए हैं, उसे बरकरार रखें। मुख्यमंत्री कार्यालय ने बयान में कहा था कि मुख्यमंत्री ने कोविड महामारी के बीच दूरसंचार संपर्क व्यवस्था को महत्वपूर्ण बताया और किसानों से आंदोलन के दौरान उसी तरह का अनुशासन और जिम्मेदारी दिखाने को कहा जिसे वह दिल्ली सीमा पर और पूर्व के विरोध-प्रदर्शन में दिखाते आए हैं।


Also Read: स्मृति ईरानी का प्रियंका पर तंज, बोलीं- केरल में सरेआम गाय काटने वाले गोरक्षा की बात कर रहे


वहीं, बीकेयू (उग्राहन) के उपाध्यक्ष शिंगारा सिंह मान ने बताया कि हमने किसी को ऐसा कुछ करने के लिए नहीं कहा है। बल्कि हम अपने सदस्यों को यह बताने वाले पहले संगठन थे कि उन्हें विरोध में टावरों को या उनके बिजली कनेक्शन को नुकसान नहीं पहुंचाना है। हम तो सिर्फ दूरसंचार कंपनी का कर रहे विरोध और हमारा ध्यान सिर्फ उसका बहिष्कार करने पर है। शिंगारा सिंह ने कहा कि ये किसी की शरारत है। यदि कोई ऐसा कर रहा है तो वह खुद से ऐसा कर रहा है, क्योंकि वह कॉरपोरेट्स से नाराज़ होगा। बीकेयू संगठन का इससे कोई लेना देना नहीं है।


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

भू-माफ़िया निकले सपा सांसद आज़म खान, जौहर यूनिवर्सिटी के लिए क़िया मुस्लिमों और दलितों की ज़मीनों पर क़ब्ज़ा

BT Bureau

बिजनौर: गोकश SP नेता व उसके तीन साथियों पर 25-25 हजार का ईनाम घोषित, आरोपियों पर रासुका लगाने की मांग

BT Bureau

प्रयागराज: पीएम ने 27 हजार दिव्यांगो को उपकरण बांट बनाया रिकॉर्ड, बोले- 130 करोड़ भारतीयों की सेवा करना हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता

BT Bureau