बड़ा खुलासा: पुलवामा अटैक के लिए नेपाल बॉर्डर से भारत लायी गयी थी RDX विस्फोटक की बड़ी खेप

0
24

बीते 14 फरवरी को जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे. इस आत्मघाती हमले की पूरी जिम्मेदारी जैश-ए-मोहम्मद ने ली है. पुलवामा आतंकी हमले इस्तेमाल होने वाला आरडीएक्स (RDX) पाकिस्तान से लाया गया था. सूत्रों के मुताबिक नेपाल के रास्ते घातक हथियारों और आरडीएक्स जैसे विस्फोटकों की बड़ी खेप को भारत लाया गया था. विस्फोटक RDX इतनी बड़ी मात्रा में स्थानीय लेवल पर बनाना आसान नहीं है. पाकिस्तान ने विस्फोटक की इतनी बड़ी खेप जम्मू-कश्मीर के पुलवामा तक सीमा पार से भिजवाई होगी. जांच में ये भी पता चला है कि पाकिस्तान में बैठा आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर ने पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई (ISI) की मदद से ट्रेंड आतंकियों को भारत में दाखिल कराया था.


Also Read: कुलभूषण जाधव को फंसाने के लिए ICJ में पाकिस्तान ने The Quint और The Indian Express के लेखों को बनाया सबूत


संयुक्त राष्ट्र संघ के सामने खुली पाकिस्तान की पोल, नेपाल बॉर्डर हुआ संवेदनशील

संयुक्त राष्ट्र संघ (UN) समेत दुनिया भर के राष्ट्रों के सामने पाकिस्तान की आतंकी साजिश की पोल खुल चुकी है. दुनिया भर के देश पाकिस्तान की करतूत की कड़ी निंदा और आलोचना कर रहे हैं. पाकिस्तान ने एक और पड़ोसी देश ईरान की सुरक्षा एजेंसी पर भी आतंकी हमला करवाकर दुनिया को डरा दिया है. पुलवामा में पाकिस्तानी आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी आदिल अहमद डार के CRPF काफिले पर हमले में लगभग 100 किलोग्राम RDX विस्फोटक का इस्तेमाल किया. जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में CRPF जवानों पर हुए आतंकी हमले में पाकिस्तानी आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के अंजाम दिये जाने के बाद से ही इमरान खान के नए पाकिस्तान की पोल दुनिया के सामने खुल चुकी है. दुनियाभर में कुख्यात आतंकी मौलाना मसूद अजहर के आंतकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने भारत में सुरक्षा एजेंसियों पर हमला किया. पठानकोट आतंकी हमले में पाकिस्तानी हाथ होने के सबूत इमरान खान सरकार के पास पहले से मौजूद हैं. अब पाकिस्तान सरकार को और कितने सबूत चाहिए. बताया जा रहा है कि पाकिस्तान की आईएसआई (ISI) जम्मू-कश्मीर में सोशल मीडिया और मदरसों के जरिए ई-टेररिज्म फैला रही है. कश्मीरी बच्चों का ब्रेनवाश कर आतंकवादी बनाया जा रहा है. इस घटना के बाद भारत-नेपाल बॉर्डर को बांग्लादेश की सीमा से भी ज्यादा संवेदनशील माना जा रहा है. सुरक्षा सलाहकारों का कहना है कि भारत को तत्काल भारत-नेपाल बॉर्डर पर चौकसी बढ़ानी चाहिए.



Also Read: पुलवामा अटैक: आतंकियों का सफाया करने में बिना शर्त भारत की मदद करने को तैयार इज़रायल


साजिशों को अंजाम देने के लिये भारत-नेपाल सीमा का इस्तेमाल कर रहे आतंकी

कश्मीर घाटी मे तैनात रह चुके भारतीय सेना के पूर्व ब्रिगेडियर हेमंत महाजन के अनुसार पाकिस्तान देश में आतंकी साजिशों को अंजाम देने के लिये भारत-नेपाल सीमा का इस्तेमाल कर रहे हैं. पाकिस्तानी आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद और आईएसआई एजेंटों की नेपाल के रास्ते भारत में घुसपैठ घातक हथियारों और RDX जैसे विस्फोटकों की बड़ी खेप नेपाल के रास्ते लाये जाने की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता है. चूंकि जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तानी सीमा पर भारतीय सेना बेहद चौकसी बरत रही है. इसलिए पाकिस्तानी आतंकी, सीमा पार आतंकवादी गतिविधियों को अंजाम देने के लिये नेपाल और बांग्लादेश जैसे देशों से होते हुये भारत में आतंकी साजो-सामान भेज रहे हैं. रिटायर्ड ब्रिगेडियर हेमंत महाजन ने कहा- ‘घाटी मे सेना घुसपैठ को बंद कर चुकी है. इतना बड़ा विस्फोटक का जखीरा सीमा पार से दूसरे रूट से लाया गया होगा. नेपाल बॉर्डर का इस्तेमाल हुआ हो सकता है’.



बिहार में एक्टिव है ISI के एजेंट

नेपाल-भारत सीमा से सटे उत्तर प्रदेश, बिहार में आईएसआई (ISI) के एजेंटो की सरगर्मी हाल ही के दिनों में बढ़ी है. जिनकी मदद से विस्फोटक सड़क के जरिये चोरी-छुपे जम्मू-कश्मीर तक लाने में पाकिस्तानी आतंकी संगठन सफल हो रहे हैं.


Also Read: Pulwama Attack: ‘पाकिस्तानी हूं पर आतंक के खिलाफ दूंगी भारत का साथ’


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमेंफेसबुकपर ज्वॉइन करें, आप हमेंट्विटरपर भी फॉलो कर सकते हैं. )


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here